Felicitation ceremony talent search exam 2019

मंगलम सिटी कालवाड रोड गोविन्दपुरा स्थित गुरुकुल आईटीआई व दैनिक भास्कर के संयुक्त तत्वाधान में संपन्न हुई राज्य स्तरीय निशुल्क प्रतिभा खोज परीक्षा के विजेताओ के लिए पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन किया गया, आयोजन समिति के संयोजक राजाराम जाखड़ ने बताया की इस परीक्षा के लिए सेकड़ो विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था, तथा इस परीक्षा का आयोजन चार चरणों में किया गया था, विद्यार्थियों में परीक्षा के लिए भारी उत्साह रहा था l  जैसा की सर्वविदित है की कौशल प्रतिभा खोज परीक्षा के विजेताओ को पूर्व घोषणानुसार जो पारितोषिक वितरित किये जायेंगे उनमे प्रथम स्थान पर रहने वाले विद्यार्थी को लैपटॉप तथा संस्था में प्रवेश लेने पर 70 प्रतिशत छात्रवृति, दुसरे स्थान पर रहने वाले दो विद्यार्थियों को टेबलेट तथा 50 प्रतिशत छात्रवृति, तीसरे स्थान पर रहने वाले पांच विद्यार्थियों को स्मार्ट वाच तथा 30 प्रतिशत छात्रवृति, चोथे स्थान पर रहने वाले सात विद्यार्थियों को 10 प्रतिशत छात्रवृति ,पांचवे स्थान पर रहने वाले 10 विद्यार्थियों को आईटीआई बुक्स तथा छठे स्थान पर रहने वाले 100 विद्यार्थियों को शानदार टीशर्ट प्रदान की जाएगी l

       इस अवसर पर संसथान निदेशक एस आर सुंडा,प्राचार्य दिनेश शर्मा, प्रबंधन समिति के अन्य सदस्य उपस्थित रहे, समारोह में निदेशक एस आर सुंडा ने प्रथम स्थान पर रहने वाले छात्र रोहित बोक्लिया को लैपटॉप, दितीय स्थान पर रहने वाले छात्र विष्णु शर्मा व बंशी तंवर को टेबलेट, तृतीय स्थान पर रहने वाले छात्र राहुल कुमावत, रोहित प्रजापत, आयुष्मान शर्मा, प्रभु दयाल फगोडीया एवं योगेश प्रजापत को स्मार्ट वाच प्रदान कार सम्मानित किया, चतुर्थ स्थान पर रहने वाले सात छात्रों को छात्रवृति के लिए चयनित किया गया, शेष सभी स्थान पर रहने वाले छात्रों को टीशर्ट प्रदान की गई

इस अवसर पर एस आर सुंडा ने छात्रो को सम्भोदित करते हुए कहा की  यदि आप एक आईटीआई छात्र हैं या फिर आईटीआई कोर्स करने की योजना बना रहे हैं तो हमेशा एक सवाल आपके जेहन में आता है और वो है कि आखिर आईटीआई करने के बाद हमें जॉब मार्केट में किस तरह की जॉब मिलेगी? आईटीआई करने के बाद जॉब की क्या संभावनाएं हैं ? जॉब मार्केट में आजकल एकेडमिक डिग्री के सामान ही स्किल्स को भी वरीयता दी जाती है. भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे स्किल इण्डिया जैसे प्रोग्राम की वजह से भी देश के युवाओं द्वारा स्किल डेवेलपमेंट पर विशेष रूप से ध्यान देने की आवश्यकता महसूस की गयी है. ऐसे स्किल्स डेवेलपमेंट प्रोग्राम्स की वजह से युवाओं और संस्थाओं की उत्पादक क्षमता बढ़ी है. यही कारण है कि भारत के किसी भी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आईटीआई) में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे या फिर प्रशिक्षण ले रहे छात्रों के पास रोजगार के भरपूर अवसर के साथ उत्कृष्ट करियर की संभावनाएं हैं. 

 आईटीआई पाठ्यक्रम ज्यदातर ग्रामीण परिवेश के छात्रों के बीच अधिक लोकप्रिय है. इस पाठ्यक्रम की लोकप्रियता का मुख्य कारण इंजीनियरिंग या गैर-इंजीनियरिंग ट्रेडों में इसके द्वारा डिजाइन स्किल डेवेलपमेंट से जुड़े सिलेबस तथा कोर्सेज पर विशेष रूप से ध्यान देना है. 21 वीं शताब्दी कौशल और ज्ञान की सदी है; ऐसे प्रोफेशनल्स जिनके पास विशेष कौशल है या उनके पास सही ज्ञान है और उन्हें लागू करने का सही तरीका पता है, आई टी आई को अन्य टेक्नीकल कोर्सेज की तुलना में कम आंकते हैं तो वे सर्वथा गलत हैं. आजकल के बढ़ते बेरोजगारी के दौर में  सही कौशल सेट और प्रशिक्षण आईटीआई छात्रों के पास उच्च शैक्षणिक योग्यता रखने वाले उम्मीदवारों के वनिस्पत रोजगार के अधिक अवसर उपलब्ध हैं.